DT News18- डिजायर टाईम्स

सीएम कमल नाथ ने जिला चिकित्सालय में 42.36 करोड़ की सौगात

डॉक्टर्स एवं पुलिसकर्मी पूरी तन्मयता एवं तत्परता से जरूरतमंदों की समस्याओं का निदान करें- श्री नाथ


छिन्दवाडा।  एक सुशासित सरकार की पहचान उसकी स्वास्थ्य सेवाओं एवं पुलिस विभाग से होती है। सुशासन के लिए आवश्यक है कि डॉक्टर्स एवं पुलिसकर्मी पूरी तन्मयता एवं तत्परता से जरूरतमंद आम जनों की समस्याओं का निदान करें ताकि जनता के मन में सरकार की अच्छी छवि बने और आम जन स्वयं विभागीय सेवाओं की प्रशंसा करें। यह बात मुख्यमंत्री कमल नाथ ने जिला चिकित्सालय में आयोजित भूमिपूजन एवं लोकार्पण कार्यक्रम में कही।  सांसद नकुल नाथ ने कहा जिले को  42 करोड़ रुपए की सौगात दी। जिससे स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार होने के साथ ही जरूरतमंदों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकेगी। इस अवसर पर सांसद नकुल नाथ, प्रदेश के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं जिले के प्रभारी मंत्री सुखदेव पांसे, प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसी सिलावट, पूर्व मंत्री दीपक सक्सेना, मप्र बार ऐसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष गंगा प्रसाद तिवारी और राज्य कृषि सलाहकार परिषद के सदस्य विश्वनाथ ओकटे,  प्रमुख सचिव  स्वास्थ्य श्रीमती पल्लवी जैन गोविल, अतिरिक्त कलेक्टर राजेश शाही, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शशांक गर्ग, एसडीएम अतुल सिंह, मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. गिरीश बी रामटेके, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप मोजेश, सिविल सर्जन डॉ.श्रीमती पी.गोगिया, अन्य चिकित्सक, म.प्र.गृह निर्माण मंडल के अधिकारी तथा बड़ी संख्या में नागरिकगण उपस्थित थे।
डाक्टरों को दी नसीहत
उन्होंने कहा कि जिला मेडिकल हब बन चुका है। जिसका छिन्दवाड़ा ही नहीं अपितु सिवनी, बालाघाट, बैतूल एवं नरसिंहपुर जिले के नागरिकों को मिल रहा है। अब इन जिलों के नागरिकों को स्वास्थ्य सुविधाओं के लिये महानगरों की ओर नहीं जाने की आवश्यकता नहीं पड़ रही है।    
छिंदवाड़ा मॉडल की तर्ज पर होगा विकास
प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं कल्याण मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि संपूर्ण प्रदेश में छिन्दवाड़ा मॉडल पेश किया है। इसी मॉडल की तर्ज पर विकास किया जाएगा। उप-स्वास्थ्य केंद्रों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के निर्माण बाद विखं एवं ग्रामों में भी आम जनता को स्वास्थ्य लाभ मिल सकेगा।
मिलावट सामग्री बेचने वालों पर कार्रवाई
मुख्यमंत्री नाथ ने संपूर्ण प्रदेश में मिलावटी खाद्य और शीतल पेय की शिकायतें आ रही थी। जिसके बाद संपूर्ण प्रदेश में शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चलाया गया। जिसके तहत प्रदेश भर में खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वालो पर कठोर कार्यवाही की गई है। यह अभियान आगे भी जारी रहेगा। हालांकि श्रीनाथ द्वारा शुद्ध के लिए चलाए जा गए अभियान से स्थानीय प्रशासन ने दूरी बनाए रखी है। जिसके चलते यहां सरकार के मंसूबों पर पानी फिरता दिखाई दे रहा है। 

DT News18-डिजायर टाईम्स