DT News18- डिजायर टाईम्स

कमलनाथ सरकार पर संकट तो? खनन माफियाओं की बांछें खिली

🔍 *सामाजिक बुराइयों पर वार*🔎
“””””””” *एपिसोड क्रमांक :- 01* “”””””””

  1. 👉 *कमलनाथ सरकार पर संकट तो?*
    👉 *खनन माफियाओं की बांछें खिली*
    👉 *कोयलांचल में सक्रिय हुए कोयला तस्कर*
    👉 *सोमवार से अवैध कोयला खदानों में बड़े स्तर पर चालू हो जाएगा कोयला उत्पादन*
    ————————————————
    जुन्नारदेव छिन्दवाड़ा
    —————————————————
    *मो.शमीम संपादक ( DTnews18.com )*

मध्य प्रदेश में कांग्रेस एवं कमलनाथ की सरकार पर गहराये संकट के बादल साफ होने की संभावनाएं कम होता देख उनके ही गृह जिले छिंदवाड़ा में माफिया जगत खुश दिखाई दे रहा है, गौरतलब है कि कमलनाथ सरकार द्वारा खनन माफियाओं सहित मिलावटखोर व अन्य अपराधियों के विरुद्ध शक्ति से कार्यवाही की जा रही थी, यही कारण है कि छिंदवाड़ा जिले एवं मुख्यतः कोयलांचल में खनन माफिया बीते एक माह से अवैध उत्खनन कार्य को अंजाम तो दे रहे थे किंतु यह कारोबार प्रशासन की आंख में धूल झोंक कर लुके छिपे किया जा रहा था। परंतु मध्य प्रदेश सरकार संकट में आते ही खनन माफिया खुलकर मैदान में उतर आए हैं कोयलांचल के जुन्नारदेव विधानसभा मुख्यालय एवं आस-पास कोयला तस्कर पूरी तरह से सक्रिय हो चुके हैं,। सूत्रों की मानें तो जुन्नारदेव के कोयला माफिया एवं उसकी टीम द्वारा तथाकथित अपने मददगारो को पेशगी नजराना रंगोउत्सव के गुलाबी रंगों के साथ दिया जा चुका है पेशगी उपरान्त मिले ग्रीन सिग्नल के बाद इसी सोमवार से कोयले का अवैध उत्खनन एवं उत्पादन विधिवत विक्राल रूस से प्रारंभ हो जायेगा।
*अपराधियों की कड़ी पहरेदारी में होता है कोयला उत्पादन*
जुन्नारदेव विधानसभा मुख्यालय एवं आसपास की बंद हो चुकी पुरानी कोयला खदान व नदी नालों में संचालित होने वाली अवैध कोयला खदान की पहरेदारी का जिम्मा अन्य जिले के फरार अपराधी एवं क्षेत्रीय निगरानी बदमाश व असामाजिक तत्वों के हाथों में रहता है, कोयला साइड के आसपास किसी भी प्रकार की प्रशासनिक मोमेंट या अन्य व्यक्तियों की आमद मात्र से ही अपराधी पहरेदार सक्रिय हो जाते हैं एवं कई बार तो वह प्रशासनिक अधिकारी तथा पत्रकारों को मारने निपटाने की धमकी देने से भी नहीं चूकते हैं, ऐसे में अब आगामी तीन चार महीनों तक क्षेत्र की शांत फिजाओं में अपराधियों का खौफ गूंजेगा एवं कोयला तस्करों के खिलाफ उठने वाली हर उस नजर व जुबान को बलपूर्वक दबाने की कोशिश होती रहेगी जो निश्चित ही प्रशासन के साथ-साथ जनसामान्य के लिए भी चिंता का विषय रहकर ऐसे सामाजिक सरोकार के अपराधों पर अंकुश लगाए जाने की अपेक्षाएं हैं।
————————————————
*( DTnews18.com )*
-निरन्तर अगले एपिसोड में….
________________________________

DT News18-डिजायर टाईम्स